गुजरात की महिला ने बॉम्बे हाईकोर्ट में क्यों भेजे 150 कंडोम ?


Kuldeep kumar

गुजरात की रहने वाली एक महिला ने हाईकोर्ट की जज को 150 कंडोम भेजे। अब आपके मन में ये सवाल तो ज़रूर आ रहा होगा कि आखिर एक महिला ने जज को कंडोम भला क्यों भेज दिए। जिस महिला ने जज को कंडोम भेजे उसका नाम देवश्री त्रिवेदी बताया जा रहा है। तो चलिए आपको बताते हैं कि आखिर महिला ने ऐसा क्यों किया।

दरअसल देवश्री ने ऐसा जज द्वारा एक दिए फैसले के बाद किया। देवश्री जज द्वारा नाबालिग के साथ यौन शोषण के मामले पर दिए फैसले से नाराज है। पिछले महीने बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने फैसला दिया था कि नाबालिग को कपड़े के ऊपर से छूने को यौन शोषण नहीं माना जाएगा। देवश्री ने बॉम्बे हाई कोर्ट के फैसले के विरोध में 12 अलग-अलग जगहों पर कंडोम भेजे हैं। इनमें जज पुष्पा वीरेंद्र गनेडीवाला का चैंबर भी शामिल है।

बता दें कि जज पुष्पा वीरेंद्र गनेडीवाला ने नाबालिग को कपड़े के ऊपर से छूने को यौन शोषण नहीं माना जाएगा, ये फैसला दिया था। देवश्री ने इंडिया टुडे से बातचीत की और अपनी मांग बताई। देवश्री ने कहा कि मैं इस तरह का अन्याय बर्दाश्त नहीं सकती हूं। जस्टिस गनेडीवाला के फैसले की वजह से यौन शोषण से पीड़ित नाबालिग बच्चियों को इंसाफ नहीं मिलेगा। मैं मांग करती हूं कि जस्टिस गनेडीवाला को सस्पेंड किया जाए।

बता दें कि पिछले महीने जनवरी में नागपुर बेंच ने नाबालिग से यौन शोषण के मामले में फैसला सुनाया था। बॉम्बे हाई कोर्ट ने फैसले में कहा था कि किसी नाबालिग के कपड़े उतारे बिना उसको छूना यौन शोषण नहीं माना जा सकता। इसको पोक्सो एक्ट (POCSO Act) के तहत यौन शोषण के रूप में परिभाषित नहीं किया जा सकता।

हालाँकि कंडोम भेजने वाली बात पर बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच के रजिस्ट्री ऑफिस ने कहा है कि उन्हें कंडोम के पैकेट नहीं मिले हैं। नागपुर बार एसोसिएशन के वरिष्ठ वकील श्रीरंग भंडारकर ने कहा कि ऐसा करना कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट है। हम देवश्री त्रिवेदी के खिलाफ एक्शन की मांग करते हैं।

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

अपराध

दुनिया

खेल

मनोरंजन