आखिर क्यों Arjun Tendulkar को Mumbai Indians द्वारा खरीदे जाने पर लगाया जा रहा है Nepotism का इल्जाम ?


Mayank Kumar

इंडियन प्रीमियर लीग यानी आईपीएल, एक ऐसा टूर्नामेंट जिसे क्रिकेट का महाकुंभ भी कहा जाता है। आईपीएल की शुरुआत साल 2008 में हुई थी और अब तक इसके 13 सीजन खेले जा चुके हैं। आईपीएल में Mumbai Indians सबसे सफल टीम है क्योंकि इस टीम के कप्तान रोहित शर्मा ने मुंबई को पांच बार आईपीएल का खिताब जितवाया है। वहीं दूसरे नंबर पर एमएस धोनी की टीम चेन्नई सुपर किंग्स है जो आईपीएल के खिताब पर तीन बार अपना कब्जा जमा चुकी है। कोरोना की वजह से आईपीएल का 13वां सीजन दुबई में खेला गया था लेकिन अब हालात सामान्य हो चुके हैं और अब आईपीएल का 14वां सीजन भारत में ही खेला जाएगा और इसके लिए बीसीसीआई ने अभी से ही तैयारी शुरू कर दी है। तैयारी बोले तो ऑक्शन।

ये भी पढ़ें: IPL 2021 Auction: कौन खिलाड़ी कितने में बिका और क्या है सारे टीम की पूरी स्क्वाड, देखें पूरी लिस्ट

चेन्नई में 18 फरवरी को IPL 2021 के 14वें सीजन की नीलामी का आयोजन किया गया था जिसमें कुल 1114 क्रिकेटरों ने रजिस्ट्रेशन करवाया था, लेकिन इसे शॉर्टलिस्ट कर 292 खिलाड़ियों तक सीमित कर दिया गया था। अंत में आईपीएल(IPL 2021) की फ्रेंचाइजियों ने कुल 57 खिलाड़ियों पर बोली लगाकर उन्हें ख़रीदा। इस दौरान इन खिलाड़ियों पर कुल 145 करोड़ 30 लाख रुपये खर्च हुए। 

IPL 2021 के 14वें सीजन की नीलामी में कई खिलाड़ियों पर जमकर पैसे बरसे तो कई खिलाड़ियों को खाली हाथ रहना पड़ा। IPL के इतिहास में दक्षिण अफ्रीका के ऑलराउंडर क्रिस मॉरिस सबसे महंगे खिलाड़ी साबित हुए जिन्हें राजस्थान रॉयल्स ने 16.25 करोड़ की बड़ी रकम में ख़रीदा। इससे पहले IPL में सबसे महंगे खिलाड़ी युवराज सिंह थे जिन्हें साल 2015 में दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम ने 16 करोड़ में खरीदा था जो अब दिल्ली कैपीटल्स के नाम से जानी जाती है।

हालांकि, मुद्दा ये नहीं है कि किस खिलाड़ी को कितने करोड़ में और किस टीम ने खरीदा। दरअसल, मुद्दा ये है कि क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर के बेटे Arjun Tendulkar  को Mumbai Indians ने क्यों खरीदा? शुरुआत करते हैं आईपीएल 2021 के ऑक्शन से जहां नीलामी में अर्जुन का नाम पहले और दूसरे सेशन में नहीं आया और इसके बाद उन्हें ट्विटर पर ट्रोल करना शुरू कर दिया गया। पहले सेशन की नीलामी के बाद से ही ट्विटर पर अर्जुन को लेकर लोगों ने अलग-अलग तस्वीरों के साथ ट्वीट करना शुरू कर दिया। एक यूजर ने मिस्टर बीन की टाइम देखते हुए फोटो शेयर कर अर्जुन को ट्रोल किया जिसमें लिखा था, Mumbai Indians की टीम Arjun Tendulkar के नाम के नीलामी में आने का इंतजार करते हुए । 

खैर, ये तो रही तब की बात जब Arjun Tendulkar  को Mumbai Indians ने नहीं खरीदा था लेकिन जैसे ही मुंबई की फ्रेंचाइजी ने उन्हें 20 लाख रुपये की बेस प्राइस पर खरीद लिया तो बाल की खाल निकालने वाले लोगों ने अर्जुन को एक बार फिर से ट्रोल करना शुरू कर दिया। इस बार अर्जुन ट्रोल हुए Nepotism  को लेकर। क्यों, क्योंकि वो सचिन तेंदुलकर के बेटे हैं। सवाल जब Nepotism  को लेकर उठे तो Mumbai Indians की तरफ से इसका जवाब भी दिया गया।

सबसे पहले इस टीम के कोच महेला जयवर्धने ने अपनी बात कही। महेला जयवर्धने ने कहा कि हमने पूरी तरह से अर्जुन के हुनर के आधार पर ये फैसला लिया है। सचिन का नाम होने की वजह से उनके उपर हमेशा ही ये बड़ा टैग लगा रहेगा लेकिन अच्छी बात ये है कि वो एक गेंदबाज हैं ना कि बल्लेबाज। इसी वजह से मैं सोचता हूं कि सचिन को इस बात पर गर्व होता कि काश वो अपने बेटे की तरह गेंदबाजी कर पाते।  अर्जुन के लिए ये वक़्त सीखने का है । उन्होंने अभी मुंबई के लिए खेलना शुरू किया है और अब वो फ्रेंचाइजी टीम में हैं। वो धीरे-धीरे सीखेंगे और बेहतर होंगे, वो अभी युवा हैं। एक ऐसे युवा जो बहुत केंद्रित हैं। हमें उनको वक्त देने की जरूरत है और उम्मीद करता हूं कि उनपर ज्यादा दबाव नहीं डाला जाएगा। उनको उभरने देना चाहिए और अपने तरीके से काम करने देना चाहिए। हमारी कोशिश उनको इसी चीज में मदद पहुंचाने की रहेगी।

Arjun Tendulkar के बारे में बात करें तो वो एक तेज गेंदबाज हैं और साथ ही वो बल्लेबाजी भी कर लेते हैं। अभी हाल ही में एक घरेलू टूर्नामेंट में उन्होंने तीन विकेट चटकाने के साथ ही तूफानी अर्धशतकीय पारी भी खेली थी। अर्जुन ने 31 गेंद पर 71 रन की पारी खेली थी और इस दौरान अर्जुन ने एक ओवर में 5 छक्के भी लगाए थे।

महेला जयवर्धने के बाद Mumbai Indians के डायरेक्टर ऑफ क्रिकेट जहीर खान ने भी अपनी बात रखी। जहीर खान ने कहा कि अर्जुन पर ज़िन्दगी भर दबाव रहेगा। साथ ही उन्होंने ये भी बताया कि Mumbai Indians ने ऑलराउंडर Arjun Tendulkar पर बोली क्यों लगाई? आइपीएल 2021 के ऑक्शन के बाद ज़हीर खान ने कहा, ''Arjun Tendulkar बहुत ही मेहनती बच्चा है, वो काफी कुछ सीखना चाहता है, यह सबसे एक्साइटिंग बात है। सचिन तेंदुलकर का बेटा होने का अतिरिक्त दबाव उस पर हमेशा रहेगा और इसके साथ ही उसे जीना होगा। हालांकि, टीम के माहौल से उसे काफी मदद मिलेगी।"

वैसे, Arjun Tendulkar के साथ ये पहला मौका नहीं होगा जब वो Mumbai Indians टीम के साथ रहेंगे। इससे पहले भी वो Mumbai Indians के साथ नेट बॉलर के रूप में समय बिता चुके हैं और जब आईपीएल का पिछला सीजन यूएई में खेला गया था, तब अर्जुन टीम के साथ नेट गेंदबाज के तौर पर यूएई गए थे लेकिन इस बार अर्जुन टीम का हिस्सा होंगे। Mumbai Indians टीम का हिस्सा बनकर अर्जुन भी काफी खुश हैं। उन्होंने कहा कि वो इस फ्रेंचाइजी टीम के बड़े फैन रहे हैं। अर्जुन के लिए एक खास बात ये भी है कि उनके पिता सचिन तेंदुलकर भी Mumbai Indians के लिए खेल चुके हैं। ऐसे में मुंबई के लिए खेलना अर्जुन के लिए भी एकदम अलग अहसास होगा।

अब ये तो थी Nepotism  की बात जिसको लेकर Mumbai Indians की तरफ से सफाई दी गई है।  अब आपको बताते हैं कि Mumbai Indians का कॉन्ट्रैक्ट मिलते ही Arjun Tendulkar  ने कौन सा रिकॉर्ड अपने नाम किया है। दरअसल, आइपीएल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी क्रिकेटर के बेटे को आइपीएल का कॉन्ट्रैक्ट मिला है और जिसने कभी आईपीएल खेला है। ये बात सभी को पता है कि सचिन तेंदुलकर ने लम्बे समय तक Mumbai Indians के लिए खेला है और अब उनके बेटे को भी आइपीएल का कॉन्ट्रैक्ट मिला है। इसलिए ये अपने आप में एक इतिहास है क्योंकि इससे पहले कभी भी ऐसे क्रिकेटर के बेटे को आइपीएल में शामिल नहीं किया गया है, जिसने आइपीएल खेला हो।

ये भी पढ़ें: इन पांच कारणों से हर भारतीय को MS Dhoni का करना चाहिए सम्मान

अब एक बार फिर से आते हैं Nepotism पर  जिसको लेकर बवाल कुछ ज्यादा ही हो रहा है।  क्या आप सभी को लगता है Nepotism  सिर्फ वही लोग कर सकते हैं जिनके पास ढेर सारा पैसा होता है। अगर आप ऐसा सोचते हैं तो आप गलत सोचते हैं। Nepotism  हर जगह है, आप और हम हमेशा Nepotism  करते हैं। इसका सीधा और सटीक उदाहरण है, अगर आप किसी ऐसी जगह रहते हैं जहाँ आपके पिता की बहुत जान पहचान है और आप किसी बैंक में अकाउंट खुलवाना चाहते हैं तो शायद ही आप बैंक में जाकर लाइन में लगेंगे या फिर हो सकता है आपके पिता ही उस बैंक में काम करते हों तो ऐसी स्थिति में आपका अकाउंट 5 मिनट में ही खुल जाएगा। ऐसे में Nepotism  पर सवाल उठाने से पहले आप खुद को देखें कि आप कितने Nepotism  में हैं। शब्द कड़वे हैं लेकिन सच्चाई यही है।

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

अपराध

दुनिया

खेल

मनोरंजन