उन्नाव कांड : तीन नाबालिग बच्चियों का शव मिलने से सनसनी, विपक्ष हुआ सरकार पर हमलावर


Kuldeep kumar

उत्तर प्रदेश के उन्नाव से एक फिर शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है। जहाँ तीन नाबालिग लड़कियां खेत में दुपट्टे से बंधी पड़ी हुई मिलीं। इस घटना से पूरे क्षेत्र में तनाव और भय का माहौल है। तीनों लड़कियों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया, जहाँ दो को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया, वहीं एक ही हालत बेहद नाजुक बनी हुई है, उसे कानपूर रीजेंसी अस्पताल रेफर किया गया है। इस मामले को लेकर विपक्ष लगातार प्रदेश की भारतीय जनता पार्टी  की सरकार पर निशाना साध रहा है। उधर, पुलिस प्राथमिक जांच में इसे पॉयजनिंग का मामला बता रही है।

जानवरों का चारा लेने गयीं थीं बच्चियां :-

वारदात उन्नाव के असोहा थाना क्षेत्र के बबुरहा गांव की है। बुधवार को दोपहर लगभग तीन बजे रोज़ की तरह तीनों बहनें जानवरों के लिए जंगल में चारा लेने निकलीं थीं, लेकिन देर शाम तक घर नहीं पहुंची। बच्चियों के घर न पहुँचने पर परिवार वालों को चिंता हुई और घरवाले बच्चियों को ढूढ़ने निकले, तो तीनों बेसुध अवस्था में एक खेत में बंधी पड़ी हुई मिलीं। तीनों बच्चियों को फ़ौरन अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहाँ डॉक्टरों ने दो को मृत घोषित कर दिया, वहीं एक को कानपूर रेफर कर दिया गया। घायल बच्ची अभी कुछ भी बोलने की हालत में नहीं है। घटना के बाद पूरे गाँव में कोहराम मच गया। लोग धरने पर भी बैठ गए हैं और मांग कर रहे हैं कि परिवार वालों को थाने में न बैठाया जाए, परिवार को इन्साफ दिया जाए। 

इस पूरी घटना को लेकर सियासी ड्रामा भी चालू हो गया है। विपक्ष ने योगी सरकार को घेर लिया है और राजनीतिक बयानबाजी भी शुरू हो गई है।  समाजवादी पार्टी, कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, भीम आर्मी समेत कई राजनीतिक दलों ने दोषियों पर कार्रवाई की मांग के साथ ही जिंदा बची लड़की को दिल्ली एम्स में भर्ती कराने की मांग की है। 

सपा नेता सुनील सिंह यादव ने सरकार को घेरा :-

इन सबके बीच अहम यह है कि जहां एक तरफ प्रशासन ने दुष्कर्म की बात से साफ इनकार किया है। वहीं, समाजवादी पार्टी के नेता सुनील सिंह यादव मामले में दुष्कर्म की बात जोड़ रहे हैं। सुनील सिंह यादव ने कहा आज उन्नाव में तीन दलित नाबालिग बच्चियों की दुष्कर्म और हत्या की खबर ने योगी आदित्यनाथ जी की सरकार के महिला सुरक्षा और मिशन शक्ति पे कालिख पोतने का काम किया है। अपराधियों बलात्कारियों की जयकारे लगाकर सत्ता का संरक्षण देने वालों के राज में इससे विभत्स व शर्मनाक कुछ नहीं हो सकता।

आप नेता संजय सिंह ने कहा कब तक रहोगे चुप :-

आप नेता संजय सिंह ने कहा कि कब तक चुप रहोगे? आज उन्नाव है, कल तुम्हारा जिला होगा, आज उनका गाँव है, कल तुम्हारा होगा, आज दलित बेटियाँ पेड़ों से बंधी मिल रही हैं कल तुम बंधे मिलोगे। याद रहे, मूक दर्शक बन कर बर्बादी का तमाशा देखने वालों को इतिहास कायर कहता है। डराओ, धमकाओ, मुकदमा करो, मैं बेटियों के साथ हूँ। 

चंद्रशेखर ने कहा उन्नाव की घटना भयावह :-

आजाद समाज पार्टी के नेता चंद्रशेखर आजाद ने ट्वीट किया, 'यूपी के उन्नाव की घटना बहुत भयावह है। दो दलित बच्चियों की लाश मिली है। एक जख्मी है। बच्ची को तत्काल एयर ऐम्बुलेंस से एम्स दिल्ली लाया जाए। हम अब किसी भी कीमत पर हाथरस नहीं दोहराने देंगे। हमारी टीम मौके पर जा रही है। बहनों की सुरक्षा और सम्मान से कोई समझौता नहीं।' 

अजय कुमार लल्लू ने की अपील :-

उन्नाव की घटना पर उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने सरकार से अपील करते हुए कहा कि उन्नाव की घटना में गंभीर रूप से घायल बेटी के  इलाज की ज़िम्मेदारी सरकार की है। सरकार से अपील है कि उन्नाव की बेटी का इलाज देश के प्रतिष्ठित अस्पताल एम्स से हो जिससे बेहतरीन इलाज हो सके। उम्मीद है सरकार उन्नाव की बेटी के इलाज के प्रति गंभीरता दिखायेगी।

उन्नाव एसपी ने गांव पहुंचकर किया मुआयना :-

मामले को देखते हुए उन्नाव एसपी आनंद कुलकर्णी ने फौरन गांव पहुंचकर मौके का मुआयना किया। उन्होंने बताया कि मौके पर काफी झाग मिला था जिससे पहली नज़र में ऐसा लगता है कि बच्चियों की मौत ज़हर की वजह से हुई है, लेकिन पोस्टमार्टम के बाद ही मौत की असली वजह साफ हो पाएगी। उन्नाव के एसपी के मुताबिक, इस मामले में जांच चल रही है. अभी एक लड़की की मां के द्वारा यह बताया गया है कि उन लड़कियों के हाथ पांव नहीं बंधे थे, जबकि लड़कियों के चाचा का कहना है कि हाथ पैर बंधे थे। हम सभी पहलुओं की जांच कर रहे हैं। जांच के बाद साड़ी बात सामने आ जाएगी। 

इस वारदात के बाद पुलिस ने घटनास्थल वाले इलाके को घेर दिया है। फोरेंसिक टीम सबूत जुटा कर ले गई है, जिससे की घटना के बारे में पता चल सके। पुलिस परिवार समेत गाँव के कई लोगों से पूछताछ कर रही है। 11 बजे मृतक दोनों लड़कियों का पोस्टमार्टम होगा। पोस्टमार्टम से ही पता चलेगा कि क्या वाक़ई में ज़हरीला पदार्थ खाने या खिलाने से मौत हुई या फिर मौत की कोई और वजह है।

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

अपराध

दुनिया

खेल

मनोरंजन