देश में बढ़ रहे Petrol-Diesel के दाम पर केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री Dharmendra Pradhan का आया बयान


Mayank Kumar

महंगाई एक ऐसी चीज है जो अगर किसी देश में बढ़ जाए तो उस देश की आर्थिक स्थिति को पूरी तरह से तहस नहस कर देती है।  इसका सीधा और सटीक उदहारण है, भारत में तेजी से बढ़ते हुए Petrol-Diesel के दाम जो आज अपनी चरम सीमा पर पहुँच गए हैं। देश के कई राज्यों में Petrol के दाम 100 रुपये प्रति लीटर से अधिक जा चुके हैं। वहीँ, मंगलवार को जब एक बार फिर Petrol-Diesel की कीमतों में बढ़ोत्तरी हुई तो इस पर केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री Dharmendra Pradhan  ने अपनी बात रखी।

ये भी पढ़ें : EPF Balance: इन 4 तरीकों से घर बैठे चेक करें अपना EPF बैलेंस

केंद्रीय मंत्री Dharmendra Pradhan  ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजारों में क्रूड ऑयल की कीमत में बढ़ोत्तरी होने के कारण Petrol-Diesel के दाम तेजी से बढ़ रहे हैं और ये कीमतें धीरे-धीरे ही कम होंगी।  कोविड-19 की वजह से ईंधन की वैश्विक सप्लाई घट गई थी और इस वजह से उत्पादन भी कम कर दिया गया था लेकिन अब औद्योगिक गतिविधियों के पटरी पर आने से मांग बढ़नी शुरू हो गई है और यही कारण है कि कीमतें भी बढ़ रही हैं। हम जीएसटी परिषद से लगातार पेट्रोलियम उत्पादों को इसके दायरे में लाने का अनुरोध कर रहे हैं, क्योंकि इससे लोगों को फायदा पहुंचेगा।

देश में बढ़ रहे लगातार Petrol  और Diesel के दामों को देखकर सोनिया गाँधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा था। इसको लेकर पेट्रोलियम मंत्री ने कहा कि सोनिया जी को ये बात पता होनी चाहिए कि राजस्थान और महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा टैक्स है। लॉकडाउन के दौरान केंद्र और राज्य की कमाई बिल्कुल ना के बराबर थी। केंद्र सरकार ने नौकरियां बढ़ाने के लिए बजट में विभिन्न क्षेत्रों को बड़ी पूंजी आवंटित करने का काम किया है।

ये भी पढ़ें : Online के जरिये घर बैठे आप कमा सकते हैं पैसे, बस करना होगा ये काम

केंद्रीय मंत्री Dharmendra Pradhan  ने ईंधन की कीमत बढ़ने के दो मुख्य कारण भी बताए हैं। पहला ये कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में ईंधन का उत्पादन कम कर दिया है और दूसरा ये कि अधिक लाभ प्राप्त करने के लिए मैन्यूफैक्चरिंग देश ईंधन का उत्पादन कम कर रहे हैं और इससे उपभोक्ता देश काफी परेशान हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि हम लगातार ओपेक (OPEC) और ओपेक प्लस देशों से आग्रह कर रहे हैं कि ऐसा नहीं होना चाहिए।

आपको बता दें, देश के हर राज्यों में Petrol की बढ़ती कीमतों के खिलाफ विपक्षी पार्टियां विरोध प्रदर्शन कर रही हैं। यहाँ तक की सोमवार को मध्य प्रदेश हाईकोर्ट में Petrol-Diesel की बढ़ती कीमतों के खिलाफ एक जनहित याचिका भी दायर हुई है। इसमें याचिकाकर्ता ने दावा किया है कि उपभोक्ताओं को Petrol और Diesel में मिलाए गए इथेनॉल पर भारी टैक्स देना पड़ रहा है।

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

अपराध

दुनिया

खेल

मनोरंजन