भारत में स्प्लिट कैप्टेंसी फेल हो जाती है, बोर्ड ने कोहली पर जताया भरोसा


Mayank Kumar

विश्व कप सेमीफाइनल में भारतीय टीम की करारी हार के बाद विराट कोहली की कप्तानी पर सवाल उठने लगे थे। उम्मीद यह जताई जा रही थी कि टी20 और वनडे क्रिकेट की कप्तानी रोहित शर्मा को सौंप दी जाएगी और विराट कोहली केवल टेस्ट क्रिकेट के कप्तान रहेंगे। 

ऐसा भी माना जा रहा था कि कोहली विंडीज दौरे पर टी20 और वनडे क्रिकेट में नहीं खेलेंगे लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अब यह बात सामने आई है कि कोहली पूरे विंडीज दौरे पर टीम के साथ होंगे। इसके साथ-साथ तीनों फॉर्मेट में कोहली ही कप्तानी करेंगे। 

हालांकि, अगर कोहली को कप्तानी से हटाया जाता है तो यह एक चुनौतीपूर्ण फैसला होगा क्योंकि भारत में स्प्लिट कैप्टेंसी चल नहीं पाती है। कप्तानी के विकल्प के तौर पर रोहित शर्मा मौजूद हैं लेकिन भारत में टेस्ट-वनडे में अलग कप्तान का फॉर्मूला नहीं चल पाता है। ये एक ही परिस्तिथि में संभव है, जब एक फॉर्मेट का कप्तान दूसरे फॉर्मेट में ना खेलता हो। 

साल 2007-08 में अनिल कुंबले टेस्ट क्रिकेट के और धोनी वनडे क्रिकेट के कप्तान थे। उस समय कुंबले वनडे क्रिकेट नहीं खेलते थे। साल 2014 से 16 तक धोनी वनडे और विराट टेस्ट क्रिकेट के कप्तान थे। उस समय धोनी ने टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया था। लेकिन विराट और रोहित के साथ ऐसा बिलकुल भी मुमकिन नहीं है क्योंकि रोहित शर्मा टेस्ट क्रिकेट में अब तक अपनी जगह पक्की नहीं कर पाए हैं। 

विश्व कप के बाद यह खबर सामने आई है कि अब तीनों फॉर्मेट में कोहली ही कप्तानी करेंगे। बोर्ड को अभी भी कोहली पर पूरा भरोसा है। 

आपको बता दें, रविवार को वेस्टइंडीज दौरे के लिए भारतीय टीम का चयन होना है। टीम इंडिया को वेस्टइंडीज के साथ 3 टी-20, 3 वनडे और 2 टेस्ट मैच खेलने हैं। 

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

भारत

दुनिया

खेल

मनोरंजन