Sony और ZEE को मिला एक दूसरे का साथ, विलय की खबर पर लगी मुहर


Mayank Kumar

ज़ी एंटरटेनमेंट और सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया अब एक साथ हो गए हैं, मतलब इन दोनों कंपनियों ने मर्जर का ऐलान कर दिया है। इसकी आधिकारिक मंजूरी ZEEL के बोर्ड की तरफ से दी गई है। मर्जर के बाद सोनी बनने वाली कंपनी में 11,605.94 करोड़ रुपए का निवेश करेगी। बता दें कि मर्जर के बाद बनने वाली कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर (MD) और CEO पुनीत गोयनका ही बने रहेंगे। दोनों कंपनियों के मर्जर के बाद ज़ी एंटरटेनमेंट के पास 47.07 फीसदी हिस्सेदारी जबकि सोनी पिक्चर्स के पास 52.93 फीसदी हिस्सेदारी होगी। कंपनी के मर्जर होने के बाद इसे शेयर बाजार में लिस्ट कराया जाएगा।

Sony ग्रुप करेगा बोर्ड डायरेक्टर को नॉमिनेट

गौरतलब है कि दोनो कंपनियों के टीवी कारोबार, डिजिटल एसेट्स, प्रोडक्शन ऑपरेशंस और प्रोग्राम लाइब्रेरी भी मर्ज किए जाएंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ZEEL और SPNI के बीच एक्सक्लूसिव नॉन-बाइंडिंग टर्म शीट की डील हुई है। इस करार का ड्यू डिलिजेंस अगले 90 दिनों में पूरा किया जाएगा। बता दें कि मौजूदा प्रोमोटर फैमिली Zee के पास अपनी शेयरहोल्डिंग को 4 फीसदी से बढ़ाकर 20 फीसदी करने का ऑप्शन है। इसमें ज्यादातर डायरेक्टर को नॉमिनेट करने का हक सोनी ग्रुप के पास रहेगा। इसके साथ ही यह भी खबर सामने आई है कि बोर्ड ने कंपनी के वित्तीय मामलों के अलावा भविष्य में होने वाले विस्तार योजना पर भी अपनी बात रखी है। बोर्ड का कहना है कि मर्जर से शेयरहोल्डर और हिस्सेदारों के हितों का कोई नुकसान नहीं होगा।

1.575 बिलियन डॉलर का निवेश करेगी सोनी में ZEEL

आपको बता दें कि साल 1992 में सुभाष चंद्र के द्वारा ZEEL को स्थापित किया गया था लेकिन अब ऐसा कहा जा रहा है कि इस कदम से सुभाष चंद्र का प्रभाव खत्म होगा। वहीं, जी एंटरटेनमेंट इंटरप्राइजेज (ZEEL) की तरफ से यह कहा गया है कि कम्पनी की तराफवास सोनी में 1.575 बिलियन डॉलर(11,605.94 करोड़) का निवेश किया जाएगा। विलय के बाद बनने वाली इकाई में कंपनी की हिस्सेदारी 52.93 फीसद होगी। वहीं, जी की हिस्सेदारी 47.07 फीसद होगी।

विलय के बाद कर्मचारियों की संख्या 4,000 से अधिक होगी

इन दोनों कंपनियों के मर्ज हो जाने के बाद यह देश का सबसे बड़ा एंटरटेनमेंट नेटवर्क बन जाएगा। यह नेटवर्क स्टार और डिज्नी इंडिया से भी बड़ा नेटवर्क बन जाएगा। विलय के बाद इस कंपनी के पास 75 टीवी चैनल, दो वीडियो स्ट्रीमिंग सर्विसेज (ZEE5 और Sony LIV), दो फिल्म स्टूडियो (Zee Studios और Sony Pictures Films India) और एक डिजिटल कंटेंट स्टूडियो (Studio NXT) होगा। वहीं, कम्पनी का रेवेन्यू 16,000 करोड़ रुपये से अधिक होगा और इसके कर्मचारियों की संख्या भी 4,000 से अधिक होगी। ऐसी उम्मीद भी जताई जा रही है कि विलय के बाद ज़ी के सभी प्रोग्राम अब सोनी पर दिखेंगे लेकिन अभी तक इस बात की पुष्टि नहीं हुई है।

स्पोर्ट्स को लेकर पुनीत गोयनका का बयान

पुनीत गोयनका का कहना है कि डील को फाइनलाइज करने के लिए 3/4 शेयरहोल्डर्स की मंजूरी लगेगी। इसके साथ ही इसमें नॉन कंपीट एग्रीमेंट पर मेजॉरिटी शेयरहोल्डर्स की भी मंजूरी लगेगी। कंपनी के मर्ज हो जाने के बाद स्पोर्ट्स पर फोकस बढ़ाया जाएगा।

बेहद खास है यह डील

इस डील के बाद ज़ी कम्पनी को ग्रोथ कैपिटल मिलेगा। दोनों कंपनियां एक दूसरे के कंटेंट और डिजिटल प्लेटफार्म का इस्तेमाल कर पाएंगी जबकि सोनी को भारत में अपने पैर जमाने का मौका मिलेगा। साथ ही सोनी को 1.3 बिलियन लोगों की व्यूअरशिप भी मिलेगी।

ZEEL का नेटवर्क

इस कंपनी की पहुंच 190 देशों में है। 10 भाषा में 100 से ज्यादा चैनल हैं। इसके साथ ही इसके पास 19% व्यूअरशिप शेयर है। ZEEL कंपनी कंटेंट के मामले में दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक है। इसके पास 2.6 लाख घंटों से ज्यादा TV कंटेंट, 4800 से ज्यादा फिल्मों के टाइटल, डिजिटल स्पेस में ZEE5 के जरिए बड़ी पकड़ हैं। इसके साथ ही देश में TV पर देखी जाने वाली 25% फिल्म ZEE के नेटवर्क पर देखी जाती हैं।

सोनी का नेटवर्क

भारत में सोनी के पास 21 चैनल हैं। इस कंपनी की पहुंच 167 देशों में है। सोनी के पास देश में 700 mn व्यूअर है जबकि सोनी का व्यूअरशिप मार्केट शेयर 9% है।

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

अपराध

दुनिया

खेल

मनोरंजन