सरेआम गाज़ियाबाद के पत्रकार की गोली मारकर हत्या, पुलिस की कार्यशैली पर खड़े हो रहे हैं सवाल


KULDEEP KUMAR

दिल्ली से सटे ग़ाज़ियाबाद के विजय नगर में गोली लगने से घायल हुए पत्रकार विक्रम जोशी की बुधवार सुबह मौत हो गई। यशोदा अस्पताल में पत्रकार विक्रम जोशी का इलाज चल रहा था। बीते सोमवार को बदमाशों ने पत्रकार को घेर लिया था और फिर उनके सिर में गोली मार दी। गोली लगने के बाद विक्रम को अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां उनकी हालत नाजुक बनी हुई थी। उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था लेकिन बुधवार सुबह पत्रकार विक्रम जोशी अपनी ज़िंदगी से हार गए।

पत्रकार की हत्या छेड़छाड़ का विरोध करने पर हुई। पत्रकार ने अपनी भांजी के साथ हुई छेड़छाड़ का विरोध किया था और शिकायत दर्ज कराई थी। इसी की खुन्नस में अपराधियों ने पत्रकार विक्रम जोशी पर सोमवार को जानलेवा हमला कर दिया था और उनके सिर में गोली मार दी थी। बुधवार सुबह इलाज़ के दौरान उनकी मौत हो गई। पत्रकार विक्रम जोशी गाज़ियाबाद के एक दैनिक अखबार में काम करते थे।

क्या था पूरा मामला:-

दरअसल, पत्रकार विक्रम जोशी ने भांजी के साथ छेड़छाड़ करने वालों की शिकायत की थी। आरोपी उनकी भांजी के साथ छेड़छाड़ करते थे और अभद्र टिप्पणियां करते थे। जिसके बाद पत्रकार ने पुलिस से इसकी शिकायत की थी। शिकायत से नाराज आरोपियों ने सोमवार रात को घेरकर उनकी पिटाई की और फिर करीब से उनके सिर में गोली मार दी। 

16 जुलाई को विक्रम जोशी की भांजी के साथ छेड़छाड़ हुई थी। अपराधी अक्सर ऐसा करते आए थे, जिसकी शिकायत पत्रकार ने की थी लेकिन वक़्त रहते पुलिस की तरफ से कोई कार्यवाही नहीं की गई, जिसके चलते ही बदमाशों के हौंसले इतने बुलंद हो गए कि उन्होंने पत्रकार की हत्या कर दी। आखिर पुलिस ने बदमाशों के खिलाफ कोई सख्त कदम क्यों नहीं उठाया? ये पुलिस की कार्यशैली पर प्रश्नचिन्ह खड़ा करता है।

पत्रकार के परिवार ने पुलिस पर उठाए सवाल:-

पत्रकार विक्रम जोशी के घरवालों ने प्रताप विहार चौकी इंचार्ज राघवेंद्र पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। विक्रम जोशी के भांजे ने एएनआई न्यूज़ एजेंसी को बताया कि हमने पुलिस से शिकायत की थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। विक्रम जोशी के भांजे का कहना है कि कमाल-उद-दीन के बेटे और उसके कुछ साथी मेरी बहन के साथ छेड़छाड़ करते थे और अभद्र टिप्पणी करते थे। मेरे मामा ने इसका विरोध किया। 

सोमवार को मेरे मामा मेरी बहन का बर्थडे सेलिब्रेट करने घर आ रहे थे। तभी कमाल-उद-दीन के बेटे और उसके साथियों ने मामा पर हमला कर दिया। पहले उन्हें बुरी तरह पीटा और फिर उनके सिर में गोली मार दी। विक्रम जोशी के भांजे का कहना है कि जब तक मुख्य आरोपी नहीं पकड़ा जाता, हम अपने मामा के पार्थिव शरीर को नहीं लेंगे।

ग़ाज़ियाबाद एसएसपी कलानिधि नैथानी ने प्रताप विहार चौकी इंचार्ज राघवेंद्र को निलंबित कर दिया है। साथ ही पूरे मामले की जांच क्षेत्राधिकारी प्रथम को सौंप दी गई है। 

9 आरोपी गिरफ्तार:-

ग़ाज़ियाबाद के विजय नगर इलाके में पत्रकार पर हुए इस जानलेवा हमले के आरोप में पुलिस ने अब तक 9 आरोपियों को गिरफ्तार किया है, जबकि 1 आरोपी फ़रार बताया जा रहा है। पुलिस ने आईपीसी की धारा 307, 34 और 506 के तहत मामला दर्ज कर लिया था। 

पुलिस ने पहले 2 आरोपी रवि और छोटू को गिरफ्तार किया। फिर पूछताछ के बाद इन दोनों के सात और साथियों को गिरफ्तार किया गया। अब तक गिरफ्तार हुए आरोपियों में रवि, छोटू, मोहित, दलवीर, आकाश, मोहित हलका, अभिषेक मोटा और शाकिर को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस अब नामजद आरोपी आकाश बिहारी की तलाश कर रही है।

पत्रकार की मौत पर राजनीति हुई तेज़:-

पत्रकार विक्रम जोशी पर हुए जानलेवा हमले और उसकी मौत के बाद विपक्ष ने सरकार की आलोचना की है। कांग्रेस ने यूपी सरकार पर तीखा हमला बोला है। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने इसे यूपी के जंगलराज का क्रूर चेहरा बताया है। 

यूपी सरकार अपराध मुक्त उत्तर प्रदेश का दावा कर रही है तो वहीं दूसरी तरफ बेगुनाहों की हत्या हो रही है। आम नागरिकों को सुरक्षा देने में यूपी सरकार पूरी तरह विफल हो चुकी है। अजय कुमार लल्लू ने ट्वीट किया, 'ग़ाज़ियाबाद के पत्रकार विक्रम जोशी नहीं रहे, उनकी गलती यह थी कि उन्होंने अपनी भांजी के खिलाफ हो रही छेड़खानी के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई थी। पीड़ित परिजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदना है'।

कांग्रेस नेता से पहले आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने भी यूपी सरकार पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था कि उत्तर प्रदेश सरकार अपराधियों पर अंकुश नहीं लगा पा रही है, अब तो पत्रकार के ऊपर भी बदमाश हमला करने लगे हैं। 

राहुल गांधी ने सरकार पर साधा निशाना:-

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी यूपी सरकार को घेरते हुए कहा कि अपनी भांजी के साथ छेड़छाड़ का विरोध करने पर पत्रकार विक्रम जोशी की हत्या कर दी गई। शोकग्रस्त परिवार को मेरी सांत्वना। वादा था राम राज का, दे दिया गुंडाराज।

ममता का यूपी सरकार पर वार:-

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी सरकार को घेरते हुए कहा कि देश में भय का माहौल हो गया है। आवाजों को दबाया जा रहा है। मीडिया को भी नहीं बख्शा जा रहा है। एक निडर पत्रकार विक्रम जोशी के परिवार के प्रति मेरी हार्दिक संवेदना। अपनी भतीजी से छेड़छाड़ करने वालों पर एफआईआर दर्ज कराने के लिए उन्हें यूपी में गोली मार दी गई थी। 

मायावती ने कहा यूपी में क्राइम हावी:-

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश में महिला असुरक्षा और हत्याओं जैसे गंभीर अपराध की बाढ़ आ गई है। इससे साफ है कि यूपी में कानून नहीं जंगलराज है। उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस से ज्यादा अपराधियों का क्राइम वायरस हावी है। जनता त्रस्त है, सरकार इस ओर ध्यान दे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लिया संज्ञान:-

पत्रकार विक्रम जोशी की हत्या के मामले में ग़ाज़ियाबाद के जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय ने कहा है कि मुख्यमंत्री ने पीड़ित परिवार को 10 लाख रूपए आर्थिक सहायता की स्वीकृति दी है। साथ ही मृतक पत्रकार की पत्नी को उनकी योग्यता अनुसार नौकरी दी जाएगी और उनके बच्चों के लिए निशुल्क शिक्षा का प्रबंध किया जाएगा। 

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

भारत

दुनिया

खेल

मनोरंजन