मोदी सरकार के संकटमोचक रहे हैं जेटली


Purti Agnihotri

भाजपा के दिग्गज नेता अरुण जेटली का आज अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में 12.07 बजे निधन हो गया। लम्बे समय से दिल्ली के एम्स में जेटली का इलाज चल रहा था।  आपको बता दें, अरुण जेटली को मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में संकटमोचक मना जाता था। स्वास्थ खराब होने की वजह से   जेटली ने इस बार राजनीति की ओर अपना रुख नहीं रखा। 

अरुण जेटली वाजपेयी सरकार में कैबिनेट मंत्री थे।  उस दौरान उन्हें उद्योग-वाणिज्य और कानून मंत्रालय की जिम्मेदारी भी दी गई थी।  इस कार्यकाल में वह बतौर दूसरे नंबर के नेता माने जाते थे। 

इसके बाद मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में अरुण जेटली वित्त मंत्री रहे और उन्हें रक्षा मंत्रालय का कार्यभार संभालने का भी जिम्मा दिया गया।  जेटली को अमृतसर से लोकसभा चुनाव में हार का सामना करना पड़ा था। लेकिन एक योग्य व्यक्ति होने की वजह से प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें मंत्रिमंडल में कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में काफी मुश्किलों का समाधान आसान तरीके से करने की वजह से अरुण जेटली को पार्टी का संकटमोचक माना जाता था।  

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

भारत

दुनिया

खेल

मनोरंजन