हड़ताल के बाद आज खुले बैंक, आम जनता को हो सकती है असुविधा


विभिन्न सार्वजनिक क्षेत्र के 10 लाख कर्मचारियों के कारण करीब बुधवार को बैंकिंग परिचालन प्रभावित रहा और कुछ निजी और विदेशी बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा के साथ विजया बैंक और देना बैंक के प्रस्तावित विलय के विरोध में एक दिवसीय हड़ताल पर थीं।
देशव्यापी हड़ताल का असर बैंकिंग सेवाओं जैसे शाखाओं में जमा और निकासी, चेक क्लीयरेंस और डिमांड ड्राफ्ट जारी करने सहित अन्य पर आने वाले दिनों में पड़ेगा औैर बीते दिनों में भी पड़ा। हड़ताल और  छुट्टियां  होने के कारण आम नागरिकों को काफी असुविधा हुई और आज भी कर्मचारियों के ना आने के कारण कार्यण्राली में अड़चनें आएंगी।
सितंबर में  सरकार ने बड़े स्वामित्व वाले बैंक ऑफ बड़ौदा के साथ राज्य के स्वामित्व वाले विजया बैंक और देना बैंक के विलय की घोषणा की थी। मर्ज की गई इकाई का 14.82 खरब रुपये का संयुक्त कारोबार होगा, जो भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) और एचडीएफसी बैंक के बाद तीसरा सबसे बड़ा बैंक है। यूनियनों का दावा है कि विलय बैंकों या उनके ग्राहकों के हित में नहीं है और वास्तव में दोनों के लिए हानिकारक होगा।

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

भारत

दुनिया

खेल

मनोरंजन