एक ऐसा देश जहाँ मृत महिला को भी फांसी के तख्ते पर लटकाया गया, जेल में होती है क्रूरता


Kuldeep kumar

इंसानों से भरी इस दुनिया से आज इंसानियत ख़त्म होती जा रही है, आज लोग एक दुसरे को कष्ट में देखकर ज्यादा खुश होते हैं. ऐसा क्यों है ?  क्या ऐसे लोगों में ज़रा भी शर्म नहीं रह गयी है. क्या इंसानियत सच में ख़तम हो गई हैं। आप किसी बाहर वाले से क्या शिकायत करेंगे, जब आपके घर के लोग ही जानवर बनते जा रहें हैं। जब घर के लोगों में ही इंसानियत ख़तम हो जाए, तो फिर सारी बात ही ख़तम हो जाती है। ऐसा ही इंसानियत को शर्मसार, इंसानियत को खत्म कर देने वाला मामला सामने आया है ईरान से, जहाँ एक मृत महिला के शव को फांसी के तख्ते पर लटकाया गया।  

The Times U.K की रिपोर्ट के मुताबिक महिला ज़्हारा इस्माइली को अपने पति की हत्या के आरोप में फांसी की सजा मिली थी और उसे फांसी पर लटकाया जाना था। सजा पाने के लिए वो लाइन में खड़ी थी, 16 लोगों के पीछे लाइन में खड़ी ज़्हारा अचानक बेहोश हो गयीं और फिर उनकी मौत हो गई। महिला के वकील ने बताया कि उसके क्लाइंट को फांसी दी गई थी, क्योंकि पीड़ित परिवार ने उनसे दूरी बना ली थी। 

अरब न्यूज़ की एक रिपोर्ट के मुताबिक पीड़ित की माँ को ये अनुमति दी गई थी कि वो मौत की कुर्सी पर बैठी मृत महिला को अपने पैरों से गिरा दे और आरोपी मृतक महिला फांसी के तख्ते पर लटक जाए। वहीं मृतक आरोपी महिला के वकील ने दावा किया कि प्रशासन किसी भी तरह से महिला को फांसी पर चढ़ाना चाहता था ताकि उसकी सास अपने बेटे की मौत का बदला ले सके। महिला के वकील ने बताया कि महिला की मौत दिल का दौरा पड़ने से हो गई थी, ज़्हारा को तनाव और डर की वजह से दिल का दौरा पड़ा और फांसी पर चढ़ने से पहले ही उसकी मौत हो गई, लेकिन इसके बाद भी उसको फांसी दी गई। 

महिला के वकील ने महिला की सास से आग्रह किया था और कहा था कि ज़्हारा ने अपने पति को इसलिए मारा, क्योंकि वो उन्हें गालियां देता था, लेकिन इससे भी ज़्हारा की सास का दिल नहीं पसीजा। बता दें ईरान में कड़े शरिया कानून की वजह से ऐसा किया गया। 

इस मामले को लेकर मानवाधिकार आयोग की तरफ से कहा गया है कि जिस महिला के साथ ऐसा सलूक किया गया वो दो बच्चों की माँ थी। ज़्हारा की मौत तेहरान के बाहर रजई शाहर जेल में हुई, ये जेल क्रूरता के लिए काफी कुख्यात है। आपको ये भी बताते चलें कि चीन के बाद ईरान दूसरा ऐसा देश है, जहाँ सबसे ज़्यादा फांसी दी जाती हैं। 

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

अपराध

दुनिया

खेल

मनोरंजन